चाय पीने के फ़ायदे / Chay Peene ke Fayde or Nuksaan Hindi

देश की क़रीब 90 फ़ीसदी जनसंख्या सुबह उठने के साथ ही चाय पीना पसंद करती है ।बेड टी ना केवल शहरों पी जाती है बल्कि गाँव में भी लोग सुबह उठकर अपने दिन की शुरुआत चाय से करना पसंद करते हैं । चाय काली हो या हरी सभी चाय में antioxident, anti catechins और पोलीफेनोल्स पाए जाते हैं ।जो हमारे शरीर को सकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं । चाय पीने के बोहोत से फ़ायदे हैं साथ ही कुछ एक इसके नुक़सान भी हैं ।आज इस पोस्ट में हम आपको Chay Peene ke Fayde or Nuksaan hindi बतायेंगे ।

Chay Peene ke Fayde or Nuksaan Hindi

  • ठंडे स्थानों पर रहने वाले लोगों के लिए चाय का सेवन बहोत फ़ायदेमंद होता है ।क्योंकि ठंडे इलाक़ों में रहने वाले लोगों का ब्लड प्रेशर लो रहता है ।जिन लोगों को ब्लड प्रेशर लो होने की समस्या होती है उनके लिए चाय पीना बहोत सही होता है ।
  • चाय में कॉफ़ी की बजाय कम कैफीन पाया जाता है ।कॉफ़ी में चाय से लगभग दो से तीन बार अधिक मात्रा में कैफीन पाया जाता है ।इसलिए चाय की बजाय कॉफ़ी का सेवन करें ।
  • अगर आप बिना चीनी की चाय पीते हैं तो आपके दाँत लम्बे समय तक स्वस्थ रहेंगे ।चाय वास्तव में faloride और taning से बनी होती है ।जो प्लेग को दूर रखती है ।
  • Chay Peene ke Fayde or Nuksaan Hindi चाय पानी की कमी को पूरा करती है। यह हमारे शरीर को हाइड्रेटेड रखने में मदद करती है ।कॉफ़ी पीने से जल्दी पेशाब आता है इसलिए यह शरीर में ज़्यादा देर तक ना रहकर बाहर निकल जाती है ।इसलिए शरीर में पानी की पूर्ति नहीं हो पाती ।
  • चाय कैंसर के विरुद्ध सुरक्षा करती है क्योंकि इसमें पॉलीफिनॉल और एंटीऑक्सीडेंट मिला होता है। इसलिए यह कैंसर से लड़ने में बहोत मदद करता है।

चाय पीने के नुकसान

  • ज्यादा चाय पीने से दिल की धड़कन बढ़ती है और दिल की बीमारी की संभावना रहती है।
  • चाय पीने से नींद ना आने की समस्या पैदा हो जाती है।
  • चाय का दुष्प्रभाव कम करने के लिये एक कप चाय पीने के थोड़ी देर बाद 4 कप शुद्ध पानी पीना चाहिए।
  • जो लोग ज्यादा चाय पीते हैं उनकी आंते जवाब दे जाती हैं और मल निष्कासन में कठिनाई आती है।
  • चाय को कभी भी दुबारा गर्म करके नहीं पीना चाहिए। क्योंकि चाय गर्म करने से चाय विषैली बन जाती है।
  • चाय पीने से खून गन्दा हो जाता है और चेहरे पर लाल फुंसिया आ जाती हैं।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *